My Blog List

20141203

ऐश की कामयाबी से खुश होता हूं : अभिषेक बच्चन


अभिषेक बच्चन इन दिनों हैप्पी न्यू ईयर और अपनी कबड्डी लीग की वजह से चर्चा में बने हुए हैं.
 आराध्या का साथ खास है
मेरे लिए आराध्या का साथ होना मेरी जिंदगी का सबसे सुखद अनुभव है. वह जब भी पास होती है तो ऐसा लगता है कि मेरी जिंदगी में कोई नेगेटिविटी नहीं है. मैं बहुत खुश होता हूं. खास बात यह है कि अब वह मुझसे बातें करने लगी है. और मेरे फोन से बहुत खेलती है. मेरी बातों को अब वह समझती भी है. परिवार के सभी सदस्यों को अब वह पहचानने लगी है.
सिक्स या एट पैक्स में दिलचस्पी नहीं
मैं हमेशा से स्पोर्ट्स प्रेमी रहा हूं तो मैं हमेशा से फिट रहा हूं. मैं जल्दी वेट पुट आॅन भी नहीं करता. यह मेरी खूबी है. और यही वजह है कि मुझे किसी तरह के पैक्स बनाने में दिलचस्पी नहीं. हां, मगर अगर किरदार की जरूरत होगी तो मैं वह भी कर लूंगा. लेकिन अब तक मुझे वैसे कोई किरदार मिले ही नहीं हैं, जिनके लिए मुझे इसकी जरूरत पड़े. मैं खुद को हमेशा फिट रखना चाहता हूं और वह मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी है.
ऐश के साथ फिल्म
हम दोनों की इच्छा है कि हम दोनों दोबारा साथ साथ काम करें. लेकिन फिलहाल ऐश्वर्य जज्बा फिल्म में व्यस्त हैं और मैं उसे डिस्टर्ब नहीं कर सकता. इस फिल्म में एक् शन करती नजर आयेंगी तो उन्हें काफी मेहनत करनी है. हमारी कोशिश है कि दोनों साथ काम करें और अब तो हमारी बेटी भी वह फिल्म देख सकेगी. लेकिन अभी से कुछ कह नहीं सकता.
नेगेटिव नहीं सोचता
मुझे इंडस्ट्री में इतने साल हो गये हैं. लेकिन अब भी लोग मुझे मेरे पिता  से ही तूलना करते हैं. लेकिन अब इन बातों का फर्क नहीं पड़ता. मेरे पिता मुझसे ज्यादा लोकप्रिय हैं और वह सदी के महानायक हैं. और यह मेरी खुशनसीबी है कि वह मेरे पापा हैं. लेकिन अब मैं इन बातों को लेकर नेगेटिव नहीं सोचता क्योंकि मैं जानता हूं कि मैं अपना काम मेहनत से कर रहा हूं. बाकी सब ऊपर वाले के हाथ में हैं. लोगों को यह भी लगता है कि ऐश मुझसे ज्यादा लोकप्रिय हैं तो मुझे यह बुरा लगता होगा तो मैं कहना चाहूंगा कि मुझे खुशी होती है कि मेरी पत् नी की लोग तारीफ करते हैं और मैं उसकी हौंसलाअफजाई के लिए हमेशा उसके साथ था और हमेशा रहूंगा. और मुझे लगता है कि हर पति को उसकी पत् नी की कामयाबी से खुश ही होना चाहिए.
पापा से सीखा अनुशासन
मुझे मेरे माता पिता ने बचपन से ही कई चीजें सिखाई हैं. उनमें सबसे महत्वपूर्ण यह है कि उनका कहना है कि मैं कुछ बनूं न बनूं मैं एक अच्छ ाइंसान बन सकूं और मुझे विश्वास है कि मैं उनकी कोशिश पर खरा उतरा हूं. मेरी एक कोशिश और होती है कि जिस तरह पिताजी अनुशासन को गंभीरता से लेते हैं. मैं भी लिया करूं क्योंकि हमारी जिंदगी में अनुशासन बहुत अहम है उसी से कामयाबी मिलती है.
आनेवाली फिल्में
फिलवक्त उमेश शुक्ला की फिल्म आॅल इज वेल कर रहा हूं.
स्पोर्ट्स को लेकर जागरूक
मुझे खुशी है कि धीरे धीरे लोग स्पोर्ट्स को लेकर सजग होते जा रहे हैं. कबड्डी की वजह से काफी लोग देसी स्पोर्ट्स को पसंद करने लगे हैं और यह अच्छी बात है कि सेलिब्रिटीज के जुड़ने से इस गेम को बढ़ावा मिल रहा 

No comments:

Post a Comment