My Blog List

20130903

फिल्मी रोमांस नहीं शुद्ध देसी रोमांस : परिणीति चोपड़ा


'लेडीज वर्सेज रिकी बहल' और 'इशकजादे' महज दो फिल्मों से परिणीति चोपड़ा ने बॉलीवुड में अपनी खास जगह बना ली है. इन दिनों वह 'शुद्ध देसी रोमांस' को लेकर चर्चा में हैं. वजह यह भी है कि फिल्म में उन्होंने कई बोल्ड सीन दिये हैं. परिणीति अपनी फिल्मों और किरदारों को लेकर बिल्कुल स्पष्ट हैं.

फेस 2 फेस
"लेडीज वर्सेज रिकी बहल" और "इशकजादे" महज दो फिल्मों से परिणीति चोपड़ा ने बॉलीवुड में अपनी खास जगह बना ली है. इन दिनों वह "शुद्ध देसी रोमांस" को लेकर चर्चा में हैं. वजह यह भी है कि फिल्म में उन्होंने कई बोल्ड सीन दिये हैं. परिणीति अपनी फिल्मों और किरदारों को लेकर बिल्कुल स्पष्ट हैं. पेश है परिणीति से हुई अनुप्रिया और उर्मिला की बातचीत के मुख्य अंश...आपकी डिक्शनरी में शुद्ध देसी रोमांस की परिभाषा क्या है?

मेरे हिसाब से शुद्ध देसी रोमांस वह रोमांस है, जो किसी फिल्म का रोमांस नहीं, बल्कि हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का रोमांस होता है. इस रोमांस में कोई लड़का किसी लड़की को डेट पर लेकर नहीं जाता है. कोई फूल नहीं देता है. कोई गाना नहीं गाता है. बल्कि दोनों आम गर्लफ्रेंड-ब्वॉयफ्रेंड की तरह छोटी-छोटी बातों से एक-दूसरे को खुश करने की कोशिश करते हैं. रोजमर्रा की जिंदगी में गलफ्रेंड-ब्वॉयफ्रेंड आमतौर पर एक-दूसरे के घर जाकर साथ में टीवी देखते हैं और कभी-कभी एक-दूसरे का बिल भी भर देते हैं. इसी तरह का रिश्ता शुद्ध देसी रोमांस कहलाता है. इस तरह के रोमांस में प्यार होता है और कांपैटिबिलिटी भी होती है. मेरे लिए यही शुद्ध देसी रोमांस की परिभाषा है.



आपकी फिल्म "शुद्ध देसी रोमांस" की रिलीज के दिन ही आपकी बहन प्रियंका की भी फिल्म "जंजीर" भी रिलीज हो रही है. ऐसे में लोग तरह-तरह की बातें कर रहे हैं. सुनने में तो यह भी आ रहा है कि बहनें आपस में टकरा रही हैं. इस पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है?

मुझे इस तरह की बातें सिर्फ और सिर्फ बकवास लगती हैं. मीडिया के लोग ये सब बातें बना रहे हैं. दीदी की पिक्चर रिलीज हो रही है. मेरी पिक्चर रिलीज हो रही है. आप दोनों की पिक्चर देखो न! ऐसा थोड़े है कि आपको सिर्फ शुक्रवार को किसी ने एक ही फिल्म देखने के लिए बाध्य किया है. मुझे तो मौका मिलता था तो हर तरह की फिल्म देख लेती थी. दीदी कह रही हैं कि यह चोपड़ा का विकेंड है तो मैं भी वही कहना चाहंूगी कि ये चोपड़ा का सप्ताह है. आप हमारे परिवार की फिल्मों की लड़कियों को देखिए. एक परिवार के लिए इससे बड़ी खुशी की बात और क्या होगी कि आपको एक परिवार की दो लड़कियों की फिल्म देखने का मौका एक साथ मिल रहा है. अभी कुछ दिनों पहले मुझसे एक जर्नलिस्ट ने कहा कि प्रियंका चोपड़ा की यह तीसरी रीमेक फिल्म है और आपकी यह तीसरी फिल्म है, तो मैं कहना चाहूंगी कि इस तरह की अच्छी चीजें अब्जॉर्ब करो, न कि दोनों बहनों को लड़वाने पर लगे रहो. उस दिन अगर किसी और भी अभिनेत्री की फिल्म होती तो मैं प्रतिस्पर्धा नहीं महसूस करती.

"शुद्ध देसी रोमांस" में लिव इन रिलेशनशिप के रिश्ते को रुपहले परदे पर फिर से दिखाया जा रहा है? क्या आप व्यक्तिगत तौर पर इस तरह के रोमांस लाइफ पर विश्वास रखती हैं?

यहां मैं कहना चाहंूगी कि यह फिल्म पूरी तरह से लिव इन रिलेशनशीप के मुद्दे पर नहीं है. आप फिल्म देखेंगे तो समझेंगे और मैं समझ नहीं पा रही कि यह इतना हउआ वाला मैटर क्यों बन गया है. फिल्म में दिखाया जा रहा है कि ऐसा होता है और जयपुर को पृष्ठभूमि में रखा गया है. यह सच है कि लोग छोटे शहरों में भी लिव इन में रहते हैं. मैं बताना चाहूंगी कि "शुद्ध देसी रोमांस" प्यार और दोस्ती के रिश्ते के बीच छुपी कहानी है और इसके सारे किरदार काफी मजेदार हैं. आप देखेंगे फिर तय कर पायेंगे कि हमारी फिल्म वास्तव में किस विषय पर है. फिल्म की कहानी रिश्तों के बीच पनपे प्यार, दोस्ती और कांप्लैक्सिटीज की कहानी है.



क्या आप व्यक्तिगत तौर पर लिव इन में रहना चाहेंगी?

फिलहाल मैं सिंगल हूं, लेकिन कभी मौका मिले तो मैं वाकई उस लड़के के बारे में शादी से पहले पूरी तरह से जानने की कोशिश करूंगी कि वाकई वह कैसा है. बेहतर तो यह है कि पूरी जिंदगी सिर पीटने से अच्छा है कि पहले लड़के से मिल लो. हां, लेकिन मैं अपने परिवार वालों की रजामंदी से ऐसा करूंगी. फिर भी एक बात मुझे समझ ही नहीं आ रही कि लोग लिव इन को लेकर इस तरह क्यों बात कर रहे हैं, जैसे यह कोई पाप हो. क्या प्यार के लिए शादी का ठप्पा होना जरूरी है. मुझे तो नहीं लगता. मेरे लिए यह बड़ा इश्यू नहीं है.



अब तक आपने तीन फिल्में की हैं. सबमें आपने बातूनी और बिंदास लड़की का किरदार निभाया है. तो क्या आप अपनी मर्जी से एक जैसे किरदार का चुनाव कर रही हैं?

मैं सिर्फ यह कहना चाहंूगी कि मेरी तीनों ही फिल्मों में मेरे किरदार बिल्कुल अलग हैं और मैं उन फिल्मों को कभी नहीं करूंगी, जिसमें मेरा काम सिर्फ 10 मिनट का हो. मंै वही फिल्में कर रही हूं, जिसमें मैं महत्वपूर्ण हूं. दूसरी बात है कि "शुद्ध देसी रोमांस" के ट्रेलर और गाने देख कर आपको लग रहा है कि मैं पुराने जैसे किरदार में हूं, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है. मैं फिल्म में अहम और अलग किरदार में हूं

No comments:

Post a Comment