My Blog List

20140425

मुझे टीआरपी नहीं फैन्स चाहिए : आशीष


कांदिवली ईस्ट के गार्डेन इस्टेट में सिंघानिया चॉल स्थित है और वही मौजूद है राघव सिंघानिया का आॅफिस भी. राघव के दोस्त पार्टी की तैयारियों में जुटे हैं. राघव फटाफट अपने शॉट्स निबटा रहे हैं. चूंकि उन्हें हेयर कर्ट के लिए जाना है...बात हो रही है आशीष चौधरी की, जो इन दिनों छोटे परदे पर राघव सिंघानियां के रूप में बेहद पसंद किये जा रहे हैं. 

आशीष, इस शो से आपको लगातार लोकप्रियता मिल रही है. आपको उम्मीद थी कि लोग इस तरह आपको प्यार देंगे?
यह तो जानकारी थी कि छोटे परदे की जो पहुंच है. वह फिल्मों से ज्यादा है. चूंकि विदेशों में लोगों को मेरा शो  हम परदेसी हो गये ही याद है. उसके बाद मुझे कई मेरे फैन्स ने मेल भेजना शुरू कर दिया था कि तुम गायब कहां हो गये. सोचिए उसके बाद मैंने कितनी फिल्में की.  लेकिन लोगों को मेरा टेलीविजन का शो याद था. लेकिन एक मुट्ठी आसमान देखने के बाद मुझे काफी मेल्स आते हैं और इससे पता चलता है कि विदेशों में फिल्मों से ज्यादा टीवी देखते हैं लोग़.साउथ अफ्रीका और न जाने कहां कहां से मेल आते हैं. फैन्स कॉल्स आते हैं. तो लगता है कि कुछ अच्छे काम कर रहा हूं. हालांकि लोग टीआरपी की बात करते हैं. लेकिन मेरा मानना है कि ऐसे जगहों पर जहां टीआरपी नहीं है. वहां भी यह शो काफी पॉपुलर हैं. हाल ही में बिहार के मुंगेर से एक दांपत्य मुझसे मिलने आये थे. उनके चेहरे पर एक खुशी थी. उन्होंने शो की काफी तारीफ की और बताया कि  किस तरह बिहार के मुंगेर इलाके में यह शो पॉपुलर है. सभी देखते हैं. जबकि टाइम स्लॉट 7 बजे का है. फिर भी. तो बिहार में तो टीआरपी नहीं है. फिर भी लोग देखते हैं और पसंद कर रहे हैं.

इस शो को हां कहने की वजह क्या रही? अचानक फिल्मों से टीवी में आने का निर्णय लेना कठिन तो रहा होगा?
हां, मगर दीया और टोनी मेरे अच्छे दोस्त हैं. प्लस इस शो के साथ एक अच्छा मेसेज जुड़ा है. मैंने जब यह मेसेज लोगों में स्प्रेड करना शुरू किया कि मैं अब टीवी में काम करना चाहता हूं. चूंकि बॉलीवुड में एक से रोल कर रहा था. मैं संतुष्ट नहीं था. मेरे पास लगातार आॅफर आ रहे थे. साथ ही बॉलीवुड में बने रहने के लिए आपको हिट फिल्मों की जरूरत होती है. जैसे जैसे फिल्में कम होती हैं. आपका फोन भी रिंग होना बंद हो जाता है. इससे बिल्कुल प्रभाव पड़ता है. मेरी लास्ट फिल्म तो हिट फिल्म थी डबल धमाल . लेकिन फिल्म की जब आधी शूटिंग ही पूरी हुई थी तो मेरे घर पर ट्रेजेडी हुई ( बहन बहनोई का ताज होटल में हुए आतंकवादी हमले में मौत) उसके बाद डैडी का बिजनेस डूबा. हमलोग बैंक रप्ट हो गये थे. मुझे मेरे पिताजी के बिजनेस को मुझे रिवाइव करना था. ताकि मैं सबकुछ ठीक कर सकूं. सो, मैंने यह निर्णय लिया. मेरी जो जिम्मेदारियां थी. मुझे सब पूरी करनी थी. मैं टेंशन में था तो मैंने फिल्में कर बंद कर दिया था.रियलिटी शोज के भी आॅफर आ रहे थे. लेकिन मैं डांस तो जानता नहीं उतना. बिग बॉस जैसे शो को भी मंैने पांच बार मना किया. तो फिर उन्होंने मुझसे पूछना शुरू कर दिया. मैं चाहता था कि कोई ऐसा शो करूं जिसमें कुछ मेसेज भी हो.  मेरा बेटा भी यह शो देखता है तो अच्छा लगता है कि ऐसे किसी शो के साथ जुड़ा जो अच्छे मेसेज के साथ लोगों के सामने आ रहा है. मेरा बेटे अभी सिर्फ चार साल का है. लेकिन वह शो देखता है तो यह समझता है कि किस तरह चॉल टूटने वाला है. इस शो में जैसा दिखाते हैं कि घर में जो काम कर रहा है उसकी भी रिस्पेक्ट करो तो वह शो से काफी अच्छी चीजें सीख रहा है.

अभिनय के अलावा किन चीजों में रुचि है?
मैं इन दिनों एडरवटाइजिंग बिजनेस से जुड़ा हूं. साथ ही सेक्योरिटी बिजनेस भी कर रहा हूं. साथ ही साथ मैं चाहता था कि अभिनय का जो शौक है और जो हूनर है. उसे मुझे खोने नहीं देना है. इसलिए मैंने काम करना जारी रखा है.

बॉलीवुड से किस तरह की प्रतिक्रिया मिली आपको?
मुझे लगा था कि सब कहेंगे कि फ्लॉप हो गया है. इसलिए टेलीविजन कर रहा है. लेकिन इंद्र कुमार ने मुझे बुला कर कहा कि आशीष मुझे पता ही नहीं था कि तुम ह्मुमर से अच्छा भी कुछ कर सकते हो. राघव के किरदार में तो तुम बहुत अच्छे जंच रहे हो. मैं तुम्हें इस तरह के किरदार वाली फिल्म जरूर दूंगा. मुझे इंद्र कुमार से यह कमेंट सुन कर बेहद अच्छा लगा. वैसे उनके साथ मैं टोटल धमाल कर रहा हूं. पूरी तरह से फिल्में करना बंद नहीं किया है, लेकिन अभी पूरा ध्यान इस शो पर है.

No comments:

Post a Comment