My Blog List

20151126

द वॉक का सफर


अमरीकन 3डी बायोग्राफिकल ड्रामा फिल्म द वॉक देखने का मौका हाल ही में मिल. यह एक सच्ची घटना व एक व्यक्ति पर आधारित सच्ची फिल्म है.  इस फिल्म की कहानी एक ऐसे व्यक्ति की कहानी है, जो हाइ वॉयर आर्टिस्ट है. फिलिप पेटिट, जिसकी यह जिद्द है कि वह दुनिया के सबसे ऊंचे वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के टिष्ट्वन टॉवर के बीच की दूरी तय करेगा. निर्देशक रोबर्ट जेमकिक्स ने वे सारी बारीकियां फिल्म के साथ रखी हैं, जिससे दर्शकों को उस दौर व फिलिप की पागलपंती देखने व समझने का मौका मिले. यह फिल्म उन हर व्यक्ति को प्रभावित करेगी और रास्ता दिखायेगी, जो दुनिया में कुछ अलग मुकाम हासिल करना चाहते हैं, लेकिन उनके पैर कभी कभी डगमगाते हैं तो वे पैर पीछे खींच लेते हैं. द वॉक उन लोगों को प्रेरित करेगी कि अगर आप ठान लें तो उसे करके दिखाना ही आपका कर्तव्य है. इस फिल्म की खूबी यह है कि निर्देशक ने फिलिप के सफर की बारीकी को दर्शाया है कि फिलिप ने यह बड़ा मुकाम यों ही हासिल नहीं किया था. वे उस पूरी प्रक्रिया से रूबरू हुए  थे. उन्होंने इसका सही प्रशिक्षण लिया. टीम बनाया और फिर आगे बढ़े. आमतौर पर जब हम सफलता हासिल करने की चाहत रखते हैं तो सिर्फ अपने जज्बे पर ध्यान देते हैं और जल्द से जल्द कामयाबी हासिल करना चाहते हैं. लेकिन हकीकत यह है कि आप मंजिल को हासिल तभी सही तरीके से कर सकते हैं, जब आप उस सफर का मजा लें. उस रास्ते का मजा लें. यह फिल्म हर लिहाज से दर्शकों को सोचने पर मजबूर करती है और काफी बातें सिखाती चलती हैं. वर्ल्ड ट्रेड सेंटर अब नहीं. इस बात का दुख निश्चित तौर पर फिलिप को भी सालता होगा. लेकिन एक सकारात्मक जीत के लिए भी इस सेंटर को याद रखा जायेगा. यह फिलिप की मेहनत का ही नतीजा था. युवाओं को यह फिल्म अवश्य देखनी चाहिए. कलाकारों को यह फिल्म अवश्य देखनी चाहिए, कि किस तरह एक पतले से तार पर खड़े रह कर भी अपने गुरु की शिक्षा को ध्यान में रख कर फिलिप ने 45 मिनट तक न सिर्फ वॉक किया, बल्कि दर्शकों का भी अभिनंदन किया, जो कि हर कलाकार का फर्ज है. इससे साफ जाहिर होता है कि  एक कलाकार का परफॉरमेस तब तक पूरा नहीं होता. जब तक उसे दर्शकों की तालियां न मिल जाये और कलाकार दर्शक को शुक्रिया न कहे. यह उन तमाम निर्देशकों के मुंह पर भी तमाचा है, जो मान बैठते हैं कि उन्होंने महान फिल्म बनायी है. और दर्शक को समझ आये या न आये. उन्हें फर्क नहीं पड़ता. कई मायनों में इस साल की श्रेष्ठ फिल्मों में से एक है यह फिल्म

No comments:

Post a Comment