My Blog List

20130108

एक्टिंग से भी कठिन है एंकरिंग : आयशा




‘वांटेड’ जैसी फिल्म में सलमान खान के साथ काम कर चुकीं आयशा टाकिया इन दिनों ‘सुरक्षेत्र’ में बतौर एंकर नजर आ रही हैं. एंकरिंग में यह उनका पहला मौका है. आयशा खुद को लकी मानती हैं कि उन्हें नये-नये अनुभव प्राप्त करने के मौके मिल रहे हैं.
फि लहाल आयशा टाकिया फिल्मों से विराम ले चुकी हैं, क्योंकि शादी के बाद वह अपनी शादीशुदा जिंदगी में व्यस्त हो चुकी थीं, लेकिन इस विराम को खत्म करते हुए उन्होंने टेलीविजन पर अपनी नयी पारी की शुरुआत ‘सुरक्षेत्र’ से की. इस शो में दर्शकों को कुछ और पसंद आये न आये, आयशा का काम उन्हें पसंद आ रहा है. शो के बारे में आयशा से हुई छोटी-सी बातचीत..
टीवी में आना अच्छा लगा
टेलीविजन फिल्मों से बिल्कुल अलग और टफ है, क्योंकि आपको यहां हर दिन न सिर्फ डेडलाइन के साथ काम करना होता है, बल्कि काफी मेहनत भी करनी होती है. सबकुछ रुटीन के साथ करना होता है. फिल्मों में आपको महीने के अनुसार काम करना होता है और आप हमेशा व्यस्त नहीं रहते. लेकिन टीवी में आप हमेशा व्यस्त रहते हैं, क्योंकि कई तरह के काम होते हैं. मेरे लिए टीवी का एक्सपीरियंस बिल्कुल अलग है, चूंकि मैंने पहले कभी टीवी के लिए काम नहीं किया, जब मुझे टीवी का ऑफर आया तो मैं उधेड़बुन में थी कि करूं या न करूं. फिर मुझे लगा कि नया चैलेंज होगा, तो मैंने हां कह दी.
एंकरिंग बेहद कठिन
पहले मैं खाली वक्त में टीवी पर रियलिटी शोज देखती थी. मुझे लगता था कि आसान काम है. सिर्फ सारे प्रतिभागियों को बुलाना ही तो है. कॉर्डिनेशन का तो काम है. लेकिन अब जब काम कर रही हूं तो लगता है कि यह काफी टफ है. यहां न सिर्फ प्रतिभागियों को बुलाना होता है, बल्कि उनका हौसला भी बढ़ाना पड़ता है.

यह भी ध्यान देना होता है कि कोई गलती न हो जाये. दो जज के बीच अगर गलतफहमियां हो जायें, तो उसे भी सुधारने का काम एंकर का ही होता है. साथ ही बोलने का लहजा, कपड़े सभी चीजों का ख्याल रखना होता है. जबकि एक्टिंग के वक्त सारी जिम्मेवारी निर्देशक की होती है. टीवी में आपको खुद को प्रूफ करना काफी कठिन होता है.
खुश हूं निर्णय से
मेरे कई दोस्तों ने मुझसे कहा कि टीवी में जाकर मैं गलती कर रही हूं. कई लोगों को ऐसा भी लगता है कि मुझे फिल्में नहीं मिल रही हैं, इसलिए मैं टीवी में आयी. मैं इस बारे में यही कहना चाहूंगी कि मुझे अभी भी फिल्में मिल रही हैं, लेकिन वैसी ही फिल्में जैसी मैंने की हैं. मैं अब खुद को दोहराना नहीं चाहती.

इसीलिए मैंने कुछ वक्त के लिए फिल्मों से ब्रेक लिया है. हां, मगर मेरी फिल्मों से कोई छुट्टी नहीं हुई. मुझे मौका मिला तो मैं दोबारा प्रभुदेवा और सलमान खान के साथ काम करना चाहूंगी. ‘वांटेड’ मेरे जीवन की अब तक की सबसे बेस्ट फिल्म रही है और आगे भी मैं ऐसी फिल्मों में काम करना चाहूंगी.
पसंदीदा गायक
मैं हमेशा से हिमेश रेशमिया और आतिफ दोनों की फैन रही हूं. उनके गाने मुझे बेहद पसंद आते हैं और ‘सुरक्षेत्र’ के स्टेज पर मुझे एक साथ आशाजी, रुना जी, आबिदा सभी लीजेंड के साथ काम करने, उनके साथ वक्त बिताने का मौका मिलता है. इस बात की काफी खुशी होती है. आशाजी हमेशा मेरी मुस्कान की तारीफ करती हैं, तो अच्छा लगता है. यह अनुभव वाकई अच्छा है

No comments:

Post a Comment