My Blog List

20130204

लोकप्रियता के चेतन



चेतन भगत के सबसे चर्चित उपन्यास 3 मिसटेक्स आॅफ माइ लाइफ पर निर्देशक अभिषेक कपूर ने फिल्म काइ पो छे का निर्देशन किया है. इस फिल्म में राजकुमार यादव और सुशांत सिंह राजपुत मुख्य किरदार निभा रहे हैं.चेतन भगत के ही उपन्यास 2 स्टेटस पर करन जौहर फिल्म का निर्माण कर रहे हैं. और इस फिल्म में आलिया भट्ट मुख्य किरदार निभा रही हैं. चेतन भगत के उपन्यास वन नाइट एट ए कॉल सेंटर पर भी फिल्म का निर्माण किया जा चुका है. सोहेल खान ने हेलो नामक फिल्म का निर्देशन किया था. चेतन भगत वर्तमान में सबसे चर्चित लेखकों में से एक हैं, जिनकी लगभग हर कहानी पर फिल्में बन रही हैं. राजकुमार हिरानी की फिल्म 3 इडियट्स के भी कुछ हिस्से उनके उपन्यास फाइव प्वाइंट समवन से लिये गये हैं.स्पष्ट है कि चेतन भगत की किताबों व कहानियों में ऐसे कई तत्व होते हैं जो निर्देशकों को फिल्में बनाने के लिए प्रेरित करते हैं. चेतन भगत न सिर्फ मेट्रो में बल्कि आम भारतीय युवाओं में भी काफी लोकप्रिय हैं. गर्ल्स हॉस्टल में मैंने जितना लोकप्रिय चेतन को देखा है. शायद ही किसी अन्य लेखक को देखा है. रांची के हॉस्टल में अपने 6 साल के लंबे समय में मैंने जितनी चर्चा चेतन की किताबों को लेकर होते देखा है. अन्य लेखकों को लेकर वह सोच या वह दिलचस्पी नहीं देखी है. बीआइ मेसरा के विद्यार्थियों से लेकर संत जेवियर्स में पढ़नेवाली लड़कियां सबमें चेतन लोकप्रिय हैं. इसकी खास वजह यह रही है कि चेतन ने अपनी किताबों में अपने सपने, अपनी सोच को दर्शाया है. चेतन जानते हैं कि आम लोग उनसे किस तरह जुड़े हैं. सो, उन्होंने वाकई फिल्मी दुनिया गढ़ी है अपनी कहानियों में. आम युवा इसलिए उनसे हमेशा प्रभावित रहे कि उनकी कहानियों में एक साथ सपने, प्यार, युवा जिंदगी की चर्चा होती है और आम युवाओं के लिए यही खास बातें हैं. सबसे खास सपने. जो सपने चेतन की किताबों में नजर आते हैं. वे सपनें ही आम युवाओं को इन कहानियों से जोड़ते हैं. दूसरी बात यह भी है कि चेतन को माउथ पब्लिसिटी का खास फायदा हुआ. ऐसा नहीं था कि निर्देशकों का ध्यान काफी दिनों पहले से उनकी कहानियों पर था. लेकिन अचानक निर्देशकों ने भी देखा कि उनकी लोकप्रियता कितनी है. जबकि चेतन से भी बेहतरीन कहानियां और बेहतरीन लेखक हैं, जिनकी कहानियां कही जानी चाहिए. लेकिन उन्हें वे मौके नहीं मिल पा रहे हैं. चेतन इस लिहाज  से भाग्यशाली रहे हैं. लेकिन चेतन की तरह ही अन्य नये लेखकों को भी मौके मिलने चाहिए.

No comments:

Post a Comment